लोग आम तौर पर यह मानने लगे हैं कि इस्तिखारे के ज़रिये वह किसी भी मामले में यकीनी तौर पर अल्लाह की मर्ज़ी जान सकते हैं। यहाँ तक कि इसके लिए वह पेशेवर इस्तिखारे करने वाले के पास भी जाते हैं। यह बात सही तरीके से समझने की ज़रूरत है कि इस्तिखारा और कुछ नहीं बल्कि अल्लाह से की जाने वाली एक प्रार्थना, एक दुआ है। इसमें अल्लाह से उन मामलों में मार्गदर्शन (रहनुमाई) की प्रार्थना की जाती है जिनमें फैसला करना मुश्किल हो जाता है। रसूलअल्लाह (स.व) की यह प्रार्थना कितनी शक्तिशाली और प्रबल है यह प्रार्थना के शब्दों में देखा जा सकता है:

या अल्लाह ! अपने ज्ञान (इल्म) से मेरा मार्गदर्शन कर, और अपने सामर्थ्य (कुव्वत) से मुझे शक्ति प्रदान कर (ताकत दे), और मैं तुझसे तेरा महान आशीष, अज़ीम रहमत मांगता हूँ, क्योंकि तू सामर्थ्य रखता है और मैं नहीं रखता, और तू सब कुछ जानता है और मैं नहीं जानता, और तेरे पास अप्रत्यक्ष (गैब) का ज्ञान है। या अल्लाह ! अगर तेरे ज्ञान में यह काम [जिसको में करने का इरादा रखता हूँ] मेरे दीन, मेरी ज़िन्दगी और मेरे भाग्य के लिए बेहतर है तो इसे मेरे लिए नियत (मुकर्रर) कर दे और इसे मेरे लिए आसान कर दे और फिर मेरे लिए इसे आशीष और रहमत से भर दे। और या अल्लाह ! अगर तेरे ज्ञान में यह काम मेरे, मेरे दीन, और मेरे भाग्य के लिए बुरा है तो इसे मुझसे दूर कर दे और मुझे इससे दूर कर दे, और [या अल्लाह!] जो कुछ भी मेरे लिए बेहतर है, उसे मेरे लिए निर्देशित (हुक्म) कर दे वह जहाँ भी है, और फिर मुझे उससे से संतुष्ट (मुतमईन) कर दे।[1]

अब हर दुआ की तरह यह भी अल्लाह के ज्ञान, हिकमत पर है कि वह इस पर क्या फैसला करता है, वह चाहे तो किसी इशारे, किसी ज़रिये से रास्ता दिखा दे चाहे तो किसी वजह के चलते देरी करा दे। इसलिए इस बात को बिलकुल साफ तौर पर समझ लेना चाहिए कि इस्तिखारा सिर्फ एक दुआ है और यह अल्लाह की मर्ज़ी पक्के तौर पर जान लेने की कोई विधि या नुस्खा नहीं है।

लोग यह भी मानते हैं कि इस्तिखारे के बाद सिर्फ सपनों के ज़रिये ही अल्लाह की इच्छा का संकेत मिल सकता है। इसी ग़लतफहमी की वजह से लोग समझते हैं कि सिर्फ ख़्वाब ही वह ज़रिया हैं जिनसे किसी मामले में अल्लाह की मर्ज़ी जानी जा सकती है। लेकिन, असल में अल्लाह को अगर कोई इशारा देना ही हो तो उसके बहुत से तरीकों हो सकते है, और ख़्वाब उनमें से एक हैं। यह भी हो सकता है कि अल्लाह किसी को भेज दे जो फैसला लेने में मदद कर दे, या फिर हालात ऐसे बन जाएं कि सही रास्ता अपने आप साफ हो जाये। या फिर अल्लाह चाहे तो सीधे कोई संकेत इंसान के दिल में डाल दे।

हालांकि, ज़रिया कोई भी हो, यह ज़रूरी है कि यदि कोई संकेत, कोई बात ऐसी हो जो दीन या अक्ल के विरुद्ध (खिलाफ) जाती हो तो उसे कभी नहीं मानना चाहिए। इंसान को हमेशा अक्ल और विवेक से काम लेना चाहिए क्योंकि  अल्लाह की तरफ से इंसान को सबसे बड़ी रहनुमाई (मार्गदर्शन) यही है। जब कहीं से कोई रहनुमाई ना मिल रही हो तो मुमकिन है कि सपने के ज़रिये कोई संकेत मिल जाये पर ज़रूरी यह है कि सपनों से मतलब वही निकाला जाये जो इल्म, अक्ल और तजुरबे (अनुभव) के विरुद्ध ना हो, और अगर विरुद्ध हो तो फिर सपने की उस व्याख्या (ताबीर) को नज़रअंदाज़ कर दिया जाना चाहिए।

 

– शेहज़ाद सलीम
  अनुवाद: मुहम्मद असजद​


[1]. सही बुख़ारी, भाग.1, 391, (न.1109)।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *